Thejantarmantar
Latest Hindi news , discuss, debate ,dissent

- Advertisement -

आदतन मजबूर कांग्रेस नेता हुसैन दलवई , नीरज भारती ने उठाए जवानोंं की शहादत पर सवाल , कलैगनार टीवी कर रहा है चीन को सपोर्ट

कांग्रेस नेताओं और कलैगनार टीवी मे शहीद जवानों की शहादत का अपमान किया है । कलैगनार टीवी डीएमके से जुड़ा हुआ है ।

423

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

- Advertisement -

नई दिल्ली- एक तरफ चीन के खिलाफ पूरा देश एकजुट है वहीं कुछ कांग्रेस नेता और दक्षिण भारत का टीवी चैनल कलैगनार अलग ही राग अलाप रहे हैं। कलैगनार टीवी दक्षिण की राजनैतिक पार्टी डीएमके का सपोर्टर माना जाता है । कांग्रेस से पूर्व राज्यसभा सांसद रहे और महाराष्ट्र कांग्रेस के नेता हुसैन दलवई ने भारतीय सैनिकों की शहादत का अपमान करते हुए कहा है कि उन्हें लाठी लेकर वहां क्यों भेजा गया था दलवई ने कहा कि भारत-चीन के बीच हुई झड़प में चीन की तरफ से कोई सैनिक नहीं मरा, सिर्फ हमारे जवान मारे गए हैं। वहीं कांग्रेस के पूर्व सचिव और हिमाचल कांग्रेस के नेता नीरज भारती ने सैनिकों की शहादत का अपमान करते हुए कहा है कि “मुझे पूरा यकीन है कि बिहार में चुनावों को देखते हुए बिहार रेजिमेंट चाइना बॉर्डर पर लगाई गई और जानबूझ कर बिहार रेजिमेंट के जवानों को किसी शातिर तरीके से मरवाया गया है ताकि बिहार चुनावों में राष्ट्रवादी माहौल बनाया जा सके।”  कलैगनार टीवी ने तो हद ही कर दी “मोदी ने इजरायल के साथ लद्दाख और हिमाचल प्रदेश को यहूदी बस्तियों के रूप में बनाने के लिए एक अनौपचारिक समझौता किया है, इसे रोकने के लिए चीन ने कार्रवाई की है।

एएनआई से बात करते हुए हुसैन दलवई ने कहा कि चीन की तरफ से कोई सैनिक नहीं मरा है। भारतीय सेना को अपमानित करते हुए कहा है कि उन्हें वहाँ लाठी लेकर क्यों भेजा गया, क्या वहाँ आरएसएस की कोई शाखा थी? महाराष्ट्र कॉन्ग्रेस के नेता दलवई ने कहा कि भारत-चीन के बीच हुई झड़प में चीन की तरफ से कोई सैनिक नहीं मरा, सिर्फ हमारे जवान मारे गए हैं।

उन्होंने कहा, “हमने जवानों को लाठियाँ देकर क्यों बॉर्डर पर भेजा, क्या वहाँ RSS की शाखा थी? ऐसा है तो सैनिकों को क्यों आरएसएस के लोगों को ही बॉर्डर पर भेजो। वे सीमा पर पहरा देंगे।”

ये वही हुसैन दलवई हैं जिनसे मार्च में कोरोना वायरस को लेकर पत्रकारों ने सवाल किया था तो उन्होंने ‘करो ना प्यार है करो ना प्यार है’ गाना शुरू कर दिया था।

विवादित बयानों को लेकर चर्चा में रहने वाले हिमाचल प्रदेश के पूर्व कॉन्ग्रेसी सरकार में संसदीय सचिव रहे नीरज भारती ने तो सारी हदें पार कर दी हैं । अपने फेसबुक प्रोफ़ाइल पर बिहार रेजिमेंट के जवानों को साजिशाना तरीके से ‘मरवाने’ तक की बात कहते हुए लिखा है कि चीन ने कुछ किया ही नहीं होगा।

हिमाचल कांग्रेस के नेता रहे है नीरज भारती

“मुझे पूरा यकीन है कि बिहार में चुनावों को देखते हुए बिहार रेजिमेंट चाइना बॉर्डर पर लगाई गई और जानबूझ कर बिहार रेजिमेंट के जवानों को किसी शातिर तरीके से मरवाया गया है ताकि बिहार चुनावों में राष्ट्रवादी माहौल बनाया जा सके, क्योंकि चाइना बॉर्डर पर कभी खून खराबा होता ही नहीं है और इस बार भी चाइना ने कुछ नहीं किया होगा बल्कि जैसे पुलवामा में पूरी सख्ती होने के बावजूद एक कार जवानों के काफिले में घुस गई थी और बहुत से जवान मारे गए थे वैसे ही किसी चाल के तहत इस बार भी बिहार रेजिमेंट के और साथ में कुछ पंजाब रेजिमेंट के जवानों को मरवाया गया है….. पर अक्ल के अंधे अंधभक्तों को ये बात समझ नहीं आएगी….”

नीरज भारती अक्सर विवादित टिप्पणी करते रहते हैं वो पहले भी प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और केंद्रीय मंत्री स्मृति ईरानी पर भी आपत्तिजनक टिप्पणी कर चुके है । साथ ही भगवान कृष्ण पर भी एक विवादित फोटो पोस्ट कर चुके हैं । जिसको लेकर हिमाचल प्रदेश में उनके खिलाफ एक एफआईआर भी दर्ज है ।

डीएमके से नाता रखता है कलैगनार टीवी

राजनीतिक पार्टी डीएमके (DMK) के आधिकारिक ‘कलैगनार टीवी’ (Kalaignar TV) पर प्रसारित एक शो का एक वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल हो रहा है। इसमें वरवणई सेंथिल (Varavanai Senthil) नाम के होस्ट को वास्तविक नियंत्रण रेखा (LAC) के पर गलवान घाटी में भारतीय सैनिकों पर हुए चीनी आक्रामण का बचाव करते देखा जा सकता है।

वीडियो में टीवी एंकर सेंथिल को चीन का समर्थन करते हुए करते हुए सुना जा सकता है कि भारतीयों के खिलाफ पीएलए सैनिकों द्वारा किया गया हमला मोदी सरकार की कुछ नीतियों की प्रतिक्रिया थी, विशेष रूप से जम्मू और कश्मीर के विशेष दर्जे को समाप्त करना।

हर प्रकार की ‘कॉन्सपिरेसी थ्योरी’ को पीछे छोड़ते हुए डीएमके के इस टीवी चैनल के एंकर का कहना है, “मोदी ने इजरायल के साथ लद्दाख और हिमाचल प्रदेश को यहूदी बस्तियों के रूप में बनाने के लिए एक अनौपचारिक समझौता किया है, इसे रोकने के लिए चीन ने कार्रवाई की है। चीन को यह काम सिर्फ इसलिए करना पड़ा क्योंकि मोदी ने जम्मू-कश्मीर को विशेष दर्जा रद्द कर दिया और लद्दाख को केंद्र शासित प्रदेश बना दिया।”

- Advertisement -

Leave A Reply

Your email address will not be published.

This website uses cookies to improve your experience. We'll assume you're ok with this, but you can opt-out if you wish. Accept Read More