Thejantarmantar
Latest Hindi news , discuss, debate ,dissent

- Advertisement -

ताहिर हुसैन ने दिल्ली हिंसा में दंगाइयों को ‘मानव हथियार’ जैसा इस्तेमाल किया: अदालत

123

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

- Advertisement -

नई दिल्ली – फरवरी महिनाों में हुए दिल्ली हिंसा के मुख्य आरोपी आप निलंबित पार्षद ताहिर हुसैन पर दिल्ली की अदालत ने सख्त टिप्पणी की है । कोर्ट ने कहा कि ताहिर ने दंगाइयों को कथित तौर पर ‘मानव हथियार’ के रूप में इस्तेमाल किया। कोर्ट ने कहा कि ताहिर के एक इशारे पर दंगाई किसी की भी जान लेने पर उतारू थे। अदालत ने यह टिप्पणी करते हुए इंटेलिजेंस ब्यूरो (IB) ऑफिसर अंकित शर्मा की हत्या के मामले में ताहिर को जमानत देने से इनकार कर दिया।

अतिरिक्त सत्र न्यायाधीश (ADJ) विनोद यादव ने अपने फैसले में कहा कि हुसैन जैसे ताकतवर व्यक्ति को जमानत पर छोड़ा गया तो वह गवाहों को धमका सकता है। उन्होंने कहा, ‘अभी यह मानने का हमारे पास पर्याप्त तथ्य हैं कि आवेदनकर्ता (ताहिर हुसैन) अपराध की जगह पर मौजूद था और एक समुदाय विशेष के दंगाइयों को भड़का रहा था। उसने (ताहिर ने) खुद से हिंसा तो नहीं की, लेकिन दंगाइयों को मानव हथियार के रूप में इस्तेमाल कर रहा था जो उसके एक इशारे पर हर किसी को मारने को तैयार थे।

‘IB ऑफिसर अंकित शर्मा को रणनीति के तहत मारा गया’

- Advertisement -

दिल्ली पुलिस ने अपनी चार्जशीट में आरोप लगाया है कि आईबी ऑफिसर अंकित शर्मा की हत्या को गहरी साजिश के तहत अंजाम दिया गया है क्योंकि ताहिर हुसैन की अगुवाई में दंगाइयों के झुंड ने खास तौर से उन्हें ही निशाना बनाया था। चार्जशीट में कहा गया है कि पोस्टमार्टम रिपोर्ट में अंकित शर्मा के शरीर में 51 जगहों पर गहरे जख्म पाए गए थे और जिस दंगाइयों ने दिन दहाड़े जिस बर्बरता के साथ शर्मा की हत्या की, उसने इलाके में सामाजिक सौहार्द की भावना को तार-तार करते हुए इलाके के लोगों में भय का वातावरण बना दिया।

विभिन्न संगठनों से कनेक्शन की भी चल रही जांच

- Advertisement -

जज ने अपने आदेश में कहा, ‘मैंने पाया कि एक गहरी साजिश के तहत नॉर्थ-ईस्ट दिल्ली में संगठित तौर पर हिंसा को अंजाम दिया गया और आवेदनकर्ता (ताहिर) की संलिप्तता की जांच चल रही है। दूसरे एफआईआर के मुताबिक, ताहिर के पॉप्युलर फ्रंट ऑफ इंडिया (PFI), पिंजरातोड़, जामिया को-ऑर्डिनेशन कमिटी, यूनाइटेड अंगेस्ट हेट ग्रुप और नागरिकता संशोधन कानून (CAA) विरोधी प्रदर्शनकारियों से संबंधों की जांच भी हो रही है। प्रवर्तन निदेशालय (ED) भी इस मामले की जांच कर रहा है।’

आपको बता दें कि फरवरी माह में पूर्वी दिल्ली समेत कई इलाकों में समप्रदायिक हिंसा भड़क उठा था, जिसका कारण जांच की अधर में था लेकिन अब इसके तार सच के साथ जुड़ने लगे है ऐसा दिल्ली पुलिस का मानना है। दिल्ली पुलिस ने अदालत में अपनी प्रारंभिक जांच रिपोर्ट में कहा है कि पूर्वी दिल्ली के दंगों के लिए सऊदी अरब और देश के अलग-अलग हिस्सों से मोटी रकम आई थी।इसके साथ ही पुलिस ने बुधवार को बताया कि ये दंगे अचानक नहीं भड़के थे, बल्कि दिल्ली में अधिक से अधिक जान-माल की हानि के लिए पूर्व नियोजित थी। दिल्ली पुलिस की स्पेशल सेल ने इस घटना के तह तक पहुचनें के लिए और आरोप पत्र दाखिल करने के लिए वक्त की मांग करते हुए अदालत से आग्रह किया ।

- Advertisement -

Leave A Reply

Your email address will not be published.

This website uses cookies to improve your experience. We'll assume you're ok with this, but you can opt-out if you wish. Accept Read More