Thejantarmantar
Latest Hindi news , discuss, debate ,dissent

- Advertisement -

भारत में 5G लॉन्‍च को लेकर जियो है तैयार है , Jio TV+ का हुआ ऐलान

205

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

- Advertisement -

नई दिल्ली – देश की सबसे बड़ी कंपनी रिलायंस इंडस्ट्रीज लिमिटेड (RIL) की 43वीं वार्षिक आम बैठक (AGM) शुरू हो गई है। कंपनी के चेयरमैन और मैनेजिंग डायरेक्टर इस AGM में कंपनी के शेयरहोल्डर्स के समक्ष कंपनी की आगे की रणनीति का ब्योरा पेश कर रहे हैं। ईंधन, रिटेल से लेकर टेलीकॉम बिजनेस में अग्रणी रिलायंस समूह का बाजार पूंजीकरण हाल में 12 लाख करोड़ रुपये के पार चला गया। रिलायंस इस आंकड़े को छूने वाली पहली लिस्टेड भारतीय कंपनी बन गई है। रिलायंस ने इस AGM के लिए काफी तैयारियां की हैं और पहली बार एक नए वर्चुअल प्लेटफॉर्म Jio Meet के जरिए AGM का आयोजन किया जा रहा है। इस प्लेटफॉर्म से एक बार में 1 लाख से अधिक शेयर होल्डर्स जुड़ सकते हैं। साथ ही कंपनी ने एक विशेष चैटबॉट भी जारी किया है।

आकाश अंबानी ने कहा, ‘जियो डेवलपर्स प्रोग्राम के जरिए कोई भी ऐप डेवलपर अपने ऐप्स डेवलप कर सकता है, लॉन्च कर सता है और मोनेटाइज कर सकता है। जो डेवलपर्स जियो के साझेदार बनने की इच्छा रखते हैं, वे अधिक जानकारी के लिए http://developer.jio.com पर जा सकते हैं।’

आकाश अंबानी ने कहा कि सेट टॉप बॉक्‍स के Jio App Store के जरिये कोई भी यूजर विभिन्‍न प्रकार के ऐप्‍स जैसे एंटरटेनमेंट, एजुकेशन, हेल्‍थ, कूकिंग, योग, गेमिंग, धर्म आदि एक्‍सेस कर सकते हैं।

आकाश अंबानी ने AGM में JioTV+ को पेश किया। उन्होंने कहा कि JioTV+ में दुनिया भर की टॉप 12 OTT कंपनियों के कंटेंट उपलब्‍ध होंगे। इनमें Netflix, Amazon Prime, Disney+ Hotstar, Voot, SonyLiv, Zee5, JioCinema, JioSaavn, YouTube कई अन्‍य ऐप्‍स शामिल हैं।

मुकेश अंबानी ने कहा, ‘जियो प्लैटफॉर्म्स ने 20 स्टार्टअप साझेदारों के साथ 4जी, 5जी, क्लाउड कंप्यूटिंग, डिवाइसेस और OS, बिग डेटा, AI, AR/VR, ब्लॉकचेन, नेचुरल लैंग्वेज अंडरस्टैंडिंग और कंप्यूटर विज़न जैसी तकनीकों में विश्व स्तरीय क्षमताओं का निर्माण किया है।

- Advertisement -

मुकेश अंबानी ने बताया, ‘अगले तीन सालों में जियो लगभग 500 मिलियन मोबईल युजर्स, 1000 मिलियन स्मार्ट सेंसर्स और 50 मिलियन घरों व व्यापारिक प्रतिष्ठानों को जोड़ेगी।’

इसके साथ ही अंबानी ने कहा, ‘आरआईएल ने राइट्स इश्यू, जियो प्लैटफॉर्म में आए कुल निवेश व बीपी द्वारा किये गए निवेश के जरिए कुल 2,12,809 करोड़ रुपये जुटाए हैं। यह वित्त वर्ष 2019-20 के आखिर के हमारे कुल कर्ज 1,61,035 करोड़ रुपये से अधिक है।’

मुकेश अंबानी ने कहा, ‘रिलायंस अब वास्तव में एक शून्य कर्ज वाली कंपनी है। यह मेरे मार्च 2021 के लक्ष्य से बहुत पहले हो गया है। यह एक बेहत मजबूत बैलेंस शीट रखती है, जो इसके तीन सबसे तेजी से ग्रोथ करने वाले इंजन्स जियो, रिटेल और ओटूसी के लिए ग्रोथ प्लान्स को सपोर्ट करेगी।’

मुकेश अंबानी ने कहा, ‘आरआईएल ने मौजूदा ईंधन खुदरा व्यापार में बीपी के साथ अपनी जेवी पूरी की है। बीपी ने जेवी में 49 फीसद हिस्सेदारी के लिए 7,629 करोड़ रुपये निवेश किये हैं।’
मुकेश अंबानी ने कहा कि Jio Platforms ने 5G समाधान तैयार कर लिया है और स्‍पेक्‍ट्रम की उपलब्‍धता के साथ ही इसका ट्रायल शुरू हो जाएगा। उन्‍होंने 5G समाधान को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को समर्पित को करते हुए कहा कि यह आत्‍मनिर्भर भारत की दिशा में बढ़ाया गया एक कदम है।

मुकेश अंबानी ने कहा, ‘हमें जियो प्लैटफॉर्म में एक रणनीतिक निवेशक के रूप में गूगल का स्वागत करते हुए खुशी हो रही है। हमने एक निवेश समझौते पर हस्ताक्षर किये हैं, जिसके तहत गूगल जियो प्लैटफॉर्म में 7.7 फीसद हिस्सेदारी के लिए 33,737 करोड़ रुपये निवेश करेगा।’

मुकेश अंबानी ने कहा, ‘हम यूएई की एआईडीए और मुबादला व सऊदी अरब की पीआईएफ का हमारे महत्वपूर्ण साझेदारों के रूप में स्वागत करते हैं। वे जो लेकर आए हैं, वह धन से कई अधिक है। वे हमारी अर्थव्यवस्था की अपार विकास क्षमता में विश्वास लेकर आए हैं।’
मुकेश अंबानी ने कहा, ‘हमारे पास तकनीकी और वित्तीय क्षेत्र के जाने-माने निवेशकों से निवेश आया है। इनमें सिल्वर लेक, विस्टा इक्विटी पार्टनर्स, जनरल अटलांटिस, केकेआर और टीपीजी शामिल हैं। इनका सर्वश्रेष्ठ तकनीक और विकास उद्यमों में सफल निवेश का इतिहास रहा है।’

- Advertisement -

मुकेश अंबानी ने कहा, ‘सेमी-कंडक्टर इंडस्ट्री के दिग्गज इंटेल और क्वालकॉम डिजिटल इकोसिस्टम के दिल हैं। रिलायंस भारत और भारतीयों के लिए नए उत्पादों को विकसित करने के लिए इनके साथ काम करेगी।’

अंबानी ने एलान किया कि Google रणनीतिक साझेदारी के तहत 33,737 करोड़ रुपये का निवेश जियो प्‍लैटफॉर्म्‍स में करेगी। इस प्रकार जियो प्‍लेटफॉर्म्स में Google की हिस्‍सेदारी 7.7 होगी। यह निवेश नियामकीय अनुमतियों के अधीन है।
मुकेश अंबानी ने कहा कि कंपनी ने 2000 करोड़ से ज्‍यादा का एक्‍सपोर्ट किया है। सबसे ज्‍यादा जीएसटी (69372 करोड़ रुपये) देने वाली कंपनी है रिलायंस।

रिलायंस के चेयरमैन ने कंपनी की 43वीं एजीएम की शुरुआत करते हुए कहा कि कोरोना वायरस एक बड़ी चुनौती बनकर आया है और भारत व विश्व तेजी से रिकवर करेगा और अच्छी ग्रोथ प्राप्त करेगा। उन्होंने बताया कि जियो मीट को 50 लाख लोगों ने डाउनलोड कर लिया है।

मुकेश अंबानी ने कहा, ‘जियो मीट भारत का पहला और एकमात्र क्लाउड बेस्ड वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग ऐप है। सिर्फ दो महीने में ही यंग जियो प्लेटफॉर्म टीम ने इसे तैयार किया है। इस ऐप की रिलीज के कुछ दिन बाद इसे 50 लाख लोगों द्वारा डाउनलोड कर लिया गया।’
अंबानी ने बताया कि इस वर्चुअल AGM का आयोजन Jio Meet के जरिए किया जा रहा है। इस प्लेटफॉर्म को हाल में लांच किया गया था।

रिलायंस की अहम एजीएम शुरू हो गई है। इस एजीएम से जुड़ी पल-पल की जानकारी के लिए हमारे साथ बने रहें।
RIL के शेयरों में मार्च के मध्य से अब तक 120 फीसद से अधिक की तेजी आ चुकी है। इसके साथ ही RIL दुनिया की 50 सबसे मूल्यवान पब्लिकली ट्रेडेड कंपनियों में शामिल हो गई है।

Jio Platforms में 22 अप्रैल को सबसे पहले फेसबुक ने निवेश की घोषणा की थी। उसके बाद सिल्वर लेक, विस्टा इक्विटी पार्टनर्स, जनरल अटलांटिस, केकेआर, मुबादाला, आडिया, टीपीजी, क्वॉलकॉम, एल कैटरटन और पीआईएफ जैसी कंपनियां Jio Platforms में निवेश की घोषणा कर चुकी हैं।

Bloomberg Billionaires Index के मुताबिक रिलायंस इंडस्ट्रीज के चेयरमैन की कुल संपत्ति अब 72.4 अरब डॉलर की हो गई है। इसके साथ ही वह दुनिया के छठे सबसे अमीर व्यक्ति बन गए हैं। वह धनाढ्यों की वैश्विक सूची में टेस्ला के एलन मस्क, गूगल के सह-संस्थापकों सर्गेई ब्रिन और लैरी पेज से आगे निकल गए हैं।

मुकेश अंबानी बुधवार को कंपनी के अहम AGM में Saudi Aramco के साथ डील की प्रगति को लेकर कुछ एलान कर सकते हैं। इस सौदा RIL के लिए काफी महत्वपूर्ण माना जा रहा है।

विश्लेषकों के मुताबिक इस AGM में भारत और अन्य विदेशी स्टॉक एक्सचेंज में Jio की लिस्टिंग किए जाने को लेकर अंबानी अपनी योजना पेश कर सकते हैं। कंपनी के चेयरमैन फेसबुक जैसी दिग्गज आईटी कंपनी के साथ हाल में हुई साझेदारी का फायदा उठाए जाने की योजना भी शेयरहोल्डर्स के सामने रख सकते हैं।

दैनिक जागरण की खबर के मुताबिक भारत में इक्विटी कल्चर लाने का श्रेय रिलायंस इंडस्ट्रीज को जाता है। रिलायंस के संस्थापक धीरूभाई अंबानी के समय में रिलायंस बड़े स्टेडियमों में एजीएम करने के लिए जानी जाती थी। इस संदर्भ में साल 1985 और 1986 के एजीएम का उल्लेख अपरिहार्य हो जाता है, जब कंपनी ने कोलाबा के एक फुटबॉल स्टेडियम और क्रॉस मैदान में AGM का आयोजन किया था। इन दोनों वार्षिक आम बैठकों में क्रमशः 12,000 और 35,000 शेयरहोल्डर्स ने हिस्सा लिया था। बाद में कंपनी ऑडिटोरियम में एजीएम का आयोजन करने लगी।

इसी बीच एजीएम वाले दिन रिलायंस इंडस्ट्रीज के शेयर की कीमत 1,978.80 रुपये के साथ अब तक के उच्चतम स्तर पर पहुंच गई है।
रिलायंस के मुंबई के बाहर के शेयरहोल्डर्स इस लाइव इवेंट में लॉग-इन के जरिए शिरकत कर पाएंगे। शेयरहोल्डर्स को लॉग-इन में किसी तरह की दिक्कत ना हो, इसके लिए RIL ने व्हाट्सएप नंबर +91-7977111111 के जरिए एक चैटबॉट लांच किया है।

- Advertisement -

Leave A Reply

Your email address will not be published.

This website uses cookies to improve your experience. We'll assume you're ok with this, but you can opt-out if you wish. Accept Read More