Thejantarmantar
Latest Hindi news , discuss, debate ,dissent

- Advertisement -

कारगिल विजय दिवस विशेष- कहानी परमवीर चक्र विजेता योगेंद्र सिंह यादव की

234

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

- Advertisement -

नई दिल्ली- पूरे देश में आज 21वां कारगिल विजय दिवस मनाया जा रहा है। आज 26 जुलाई 1999 को ही भारतीय सेना ने पाकिस्तानी सेना को धूल चटाई थी। इस जीत में योगदान है उन भारतीय शहीद जवानों का जिन्होंने अपने जान की परवाह किए बिना देश के लिए गोली खाई और देश की रक्षा के लिए शहीद हो गए। उन्हीं हीरो में एक हैं बुलंदशहर के परमवीर चक्र विजेता योगेंद्र यादव, जो कारगिल युद्ध में 17 लगने के बाद भी लड़ते रहे और दुश्मन को मां भारती की भूमि से खदेड़ दिया। परमवीर चक्र विजेता योगेंद्र यादव की कहानी बिल्कुल एक फिल्म सरीखी हैं। कैसे उन्होंने टाइगर हिल पर अदम्य साहस का परिचय दिया था वो देश कभी भी नहीं भूल सकता है। योगेंद्र यादव अभी भी भारतीय सेना में सूबेदार मेजर के पद पर सेवाएं दे रहे हैं।

योगेंद्र सिंह यादव , परमवीर चक्र
योगेंद्र सिंह यादव , परमवीर चक्र विजेता

ये सच्चाई है, एक ऐसे सैनिक की जिसने अपने दम पर टाइगर हिल पर कब्जा करने का हौंसला दिखाया। ये कहानी है परमवीर चक्र विजेता योगेंद्र सिंह यादव की, जो आज भी लोगों के रूह कंपा देती है। योगेंद्र यादव कारगिल के वो हीरो हैं जिन्होंने अपनी जान पर खेलकर टाइगर हिल पर भारत का झंडा लहरा था। आज कारगिल युद्ध को 20 साल हो गए है आइये जानते है उनके इस मिशन को ।

19 साल की उम्र में ट्रेनिंग के बाद ही उन्होंने जंग की तैयारी शुरू कर दी। भारतीय सेना की 18 ग्रेनेड का हिस्सा बने योगेंद्र को सेना में भर्ती होते ही जंग के मैदान में उतरना पड़ा। घातक प्लाटून का हिस्सा बनते ही उन्हें 1999 में द्रास के टाइगर हिल को फतह करने की जिम्मेदारी मिली। जहां पाकिस्तानी सैनिक पहले से ही घात लगाए बैठे थे। 15 हजार फीट से ज्यादा की चढ़ाई और ऊपर हथियारों के साथ बैठा दुश्मन सबसे बड़ी चुनौती था। लेकिन फिर भी चढ़ाई करने का फैसला लिया। कुल 21 जवानों की टुकड़ी जैसे ही आधे रास्ते तक पहुंची दुश्मन ने ऊपर से हमला बोल दिया। जिसमें कई जवान शहीद हो गए। खड़ी चट्टान के सहारे टाइगर हिल पर पहुंचना बहुत ही मुश्किल था लेकिन फिर भी वही रास्ता लिया गया ताकि दुश्मन को आभास भी ना हो कि भारतीय सेना ऐसा साहस कर सकती है। ऊपर पहुंचते ही दुश्मन के पहले बंकर को नष्ट  कर डाला। लेकिन यहां तक पहुंचने में भी कई सैनिक शहीद जो गए।

- Advertisement -

दूसरे बंकर तक पहुंचने तक सिर्फ 7 जवान बचे थे। दुश्मन को हमारे सैनिकों की भनक लग गई और उन्होंने फायर खोल दिया। लेकिन  दुश्मन को सही लोकेशन पता नहीं चली। भारतीय सैनिक इसीलिए शांत बैठे रहे।  पाकिस्तानी सैनिकों ने समझा कि सभी भारतीय सैनिक मारे गए है।  पता लगाने के लिए जैसे ही 12 पाकिस्तानी सैनिक पास आये, योगेंद्र सिंह यादव और उनके 6 साथियों ने पोजिशन लेकर फायर खोल दिया और 11 दुश्मन सैनिकों को मार डाला 1 पाकिस्तानी सैनिक भागने में सफल रहा। भागने वाले पाकिस्तानी सैनिक ने योगेंद्र सिंह यादव और उनके साथियों की जानकारी अपने पाकिस्तानी सैनिकों को दे दी।

- Advertisement -

अब पाकिस्तान के सैनिक पूरी तैयारी के साथ आये और योगेंद्र सिंह यादव और उनके साथियों पर हमला बोल दिया। मोर्टार का एक टुकड़ा योगेंद्र सिंह की नाक पर लगा और खून नल से पानी की तरह निकलने लगा। योगेंद्र सिंह के एक साथी ने बताया कि सभी साथी मारे जा चुके है। जैसे ही बेसुध योगेंद्र यादव को उनके साथी ने खून रोकने के लिए फर्स्ट ऐड देने की कोशिश की तभी एक गोली उसके माथे को चीरती हुई निकल गई और वो वहीं शहीद हो गया। दूसरी गोली योगेंद्र सिंह यादव के कंधे पर लगी।  एक के बाद एक 11 गोलियां योगेंद्र सिंह यादव के शरीर मे लगी, ना हाथ उठा रहा था और ना पैर। पाकिस्तानी सैनिक पास आ गए और मारे गए भारतीय सैनिकों पर गोलियां मार रहे थे । योगेंद्र सिंह यादव घायल थे लेकिन मरने का नाटक करते रहे ,पाकिस्तानी सैनिक ने मरा समझ कर योगेंद्र सिंह यादव के 3 गोलियां मारी लेकिन वो हिले तक नहीं। उसके बाद 15 वीं गोली उनके सीने पर मारी और उनको छोड़ कर पाकिस्तानी सैनिक आगे बढ़ गए।

चढ़ाई के दौरान पीछे की साइड से योगेंद्र सिंह यादव के कपड़े फट गए थे जिसके बाद उन्होंने अपना पर्स सीने के पास वाली पॉकेट में रख लिया जिसमें 5 रुपए के कुछ सिक्के थे। जब 15 वीं गोली दुश्मन ने मारी तो वो 5 रुपयों के सिक्के से टकरा गई। ये चमत्कार से कम नहीं था।  3 सैनिक जो पाकिस्तान के थे अपने साथियों को बता रहे थे कि चोटी पर दुबारा से कब्जा कर लिया है। पूरी ताकत ये योगेंद्र सिंह यादव उठे और वहां पास पड़े ग्रेनेड को उठाकर उनकी तरह फेंक दिया और तीन पाकिस्तानी सैनिकों के परखच्चे उठा दिए। उसके बाद लुढ़कते लुढ़कते सभी राइफलों को पोजिशन पर लगाने लगे। जैसे ही पाकिस्तानी सैनिकों की टुकड़ी चोटी पर वापिस आई योगेंद्र सिंह यादव अलग अलग पोजिशन से फायर करने लगे।

पाकिस्तानी सैनिकों ने सोचा कि भारतीय  फ़ौज पहुंच गई है और पाकिस्तानी सैनिक पीछे हटने लगे। अब योगेंद्र सिंह यादव के सामने मुश्किल थी कि भारतीय सैनिकों को कैसे इन्फॉर्म करें क्यों कि हाथ काम नहीं कर रहा था और पैरों में कई गोलियां लगी थीं। 72 घंटे से खाने के नाम पर पारले जी बिस्किट का सिर्फ आधा पैकेट खाया था। नीचे कैसे जाएं अब ये समस्या आ रही थी अब उन्हें एक नाला दिखाई दिया और उसी नाले में लुढ़कते लुढ़कते 500 मीटर नीचे तक आये और तभी उन्हें अपने सैनिक दिखाई दिए।

चोटी पर कब्जे की कहानी उन्होंने अपने साथियों को बताई और बेसुध हो गए। उसके बाद भारतीय जवानों ने ऊपर जाकर चोटी पर कब्जा कर लिया। 17 गोलियों के बाद भी जीवित रहते हुए दुश्मनों से लड़ना अपने आप में एक मिसाल है जिसे  कभी भूला नहीं जा सकता। 17 गोलियों को खाने के बाद भी ना अपनी और ना ही अपने परिवार की सोच कर परमवीर योगेंद्र ने सिर्फ देश की सोची

- Advertisement -

Leave A Reply

Your email address will not be published.

This website uses cookies to improve your experience. We'll assume you're ok with this, but you can opt-out if you wish. Accept Read More