Thejantarmantar
Latest Hindi news , discuss, debate ,dissent

- Advertisement -

SSC- स्टाफ सिलेक्शन कमीशन या सबसे सुस्त कमीशन?? जानिए क्या है पूरा मामला

524

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

- Advertisement -

नई दिल्ली/अंकित मिश्रा – कहा जाता है कि पढ़ोगे लिखोगे बनोगे नवाब लेकिन देश में ग्रुप बी और ग्रुप सी की सरकारी भर्तियां करने वाली संस्था यानी स्टाफ सिलेक्शन कमीशन के लिए भर्तियों का आधार केवल और केवल अच्छी किस्मत को माना गया है। पिछले 15, 16 और 18 नवंबर को एसएससी के द्वारा सीजीएल की टीयर 2 की परीक्षा आयोजित की गई थी और इसका परिणाम 19 फरवरी को जारी किया गया है। परिणाम जारी होने के बाद से ही छात्रों में गजब का आक्रोश देखा जा रहा है। छात्रों का कहना है कि जारी परिणाम में भेदभाव करते हुए धांधली की गई है।

SSC

दरअसल 15 और 16 नवंबर के प्रश्न एसएससी ने अच्छे स्तर के बनाए थे जबकि 18 तारीख वाले प्रश्न पत्र बेहद आसान थें। जिस कारण से कई छात्रों ने 200 में से 200 अंक हासिल कर लिए अब जब परिणाम जारी हुआ है तो जहां एक ओर 15 और 16 तारीख वालों के 60 से 70 नंबर तक बढ़ा दिए गए हैं तो वहीं 18 तारीख वालों के 40 से 50 नंबर तक कम कर दिए गए हैं।

SSC

छात्रों का कहना है कि यह सब नॉर्मलाईजेशन के नाम पर किया गया है। आक्रोशित छात्रों का कहना है कि वह 90 से 95 फीसदी तक अंक लाकर भी बाहर कर दिए गए हैं और यदि कुछ छात्र गलती से पास भी हो गए हैं तो वह फाइनल मेरिट तक बाहर हो जाएंगे। आसान प्रश्न पत्र बनाकर एसएससी ने जो गलती की थी उसकी सजा अब 18 तारीख वाले छात्रों को मिल रही है। शक और भी गहरा इसलिए हो जा रहा है क्योंकि हर बार परीक्षा परिणाम जारी करने के 3 से 4 दिनों के भीतर छात्रों के द्वारा प्राप्त किए गए अंक एसएससी की साइट पर जारी किए जाते थे जबकि इस बार टीयर 2 के अंक टीयर 3 के अंक के साथ जारी करने की बात कही गई है और इसके लिए कोई तारीख भी नहीं दी गई है।

- Advertisement -

यह सामान्य नहीं दिख रहा है। छात्रों का कहना है कि उनके साथ की गई नाइंसाफी को यदि ठीक नहीं किया गया तो वे सीजीएल 2019 के परीक्षा परिणाम के खिलाफ कोर्ट जाएंगे और परीक्षा को फिर से आयोजित करवाने की मांग करेंगे। फिलहाल 18 नवंबर के प्रभावित छात्र विभिन्न एसएससी क्षेत्रीय कार्यालय के बाहर अनशन करने की बात भी कह रहे हैं।

- Advertisement -

SSC

अब सवाल यह है कि देश में सरकारी भर्तियों का इतना बुरा हाल क्यों है कि 90 से 95 फ़ीसदी अंक लाकर भी छात्र फेल हो रहे हैं। तो इसके जवाब में छात्र बताते हैं कि देश में लगभग हर प्रतियोगी परीक्षा जो 2017 के बाद संपन्न हुई है उसकी जॉइनिंग तो दूर परीक्षा परिणाम भी लंबित है। एसएससी ने जहां 2017 के बाद की किसी भी परीक्षा की जॉइनिंग नहीं करवाई है तो वहीं रेलवे में तो परीक्षाएं भी अब तक पूरी नहीं हो पाई है। छात्रों का आरोप है कि पहले तो वैकेंसी नहीं, गिनी चुनी वैकेंसी मिले तो परीक्षा नहीं, परीक्षा हो तो परिणाम नहीं और हर स्तर पर यदि धरना प्रदर्शन कर भी दें तो जॉइनिंग के लिए सालों तक घर में बिठा दिए जाते हैं

SSC

एसएससी सीजीएल 2019 के प्रभावित छात्र अपनी शिकायत लेकर एसएससी के क्षेत्रीय कार्यालयों में शिकायत पत्र दे चुके हैं लेकिन अब तक कोई प्रतिक्रिया उन्हें नहीं मिली है। आक्रोशित छात्र व उनके शिक्षक ट्विटर के माध्यम से लगातार अपना विरोध दर्ज करवा रहे हैं 23 तारीख को भी #cgl19marks ट्विटर पर दिनभर ट्रेन्ड करता रहा और 30 लाख से अधिक ट्वीट भी किए गए लेकिन ना तो एसएससी ने इस पर कोई प्रतिक्रिया दी और ना ही सरकार ने। क्या देश की युवाओं की कोई कदर नहीं रही? अब क्या उनकी कोई नहीं सुनने वाला? छात्र 25 फरवरी को सुबह 11:00 बजे#modi_rojgar_do ट्विटर पर ट्रेन करवाने वाले हैं और इसके बाद भी एसएससी ने सारी समस्याओं का समाधान नहीं निकाला तो छात्र सड़कों पर भी उतर सकते हैं। उम्मीद है कि यह परिस्थिति नहीं आएगी। छात्रों के साथ न्याय अपेक्षित है।

इस खबर से जुड़े किसी भी सवाल, शिकायत के लिए आप नीचे दिए गए लिंक अंकित मिश्रा पर क्लिक कर सीधे ट्वीटर पर मिलें

अंकित मिश्रा की रिपोर्ट

या फिर साइट के कॉमेंट बॉक्स में भी अपने विचार साझा कर सकते हैं। 

- Advertisement -

Leave A Reply

Your email address will not be published.

This website uses cookies to improve your experience. We'll assume you're ok with this, but you can opt-out if you wish. Accept Read More