Thejantarmantar
Latest Hindi news , discuss, debate ,dissent

- Advertisement -

पहलवानों के मुद्दे पर भारतीय ओलंपिक संघ ने शाम 5:45 बजे इमरजेंसी मीटिंग

0 22

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

- Advertisement -

डब्लूएफआई (WFI) यानी भारतीय कुश्ती महा संघ (wrestling federation of india) के प्रमुख बृजभूषण शरण सिंह (WFI President Brij Bhushan Sharan Singh) पर यौन उत्पीड़न का आरोप लगने के बाद देश के शीर्ष पहलवान सड़कों पर उतर आए हैं और दिल्ली के जंतर-मंतर पर प्रदर्शन कर रहे हैं.

पहलवान विनेश फोगाट, बजरंग पूनिया, साक्षी मिलक, अंशु मलिक और रवि दहिया समेत देश के दिग्गज पहलवान खेल मंत्रालय से डब्ल्यूएफआई यानी भारतीय कुश्ती महासंघ को तुरंत भंग किए जाने और कुश्ती महासंघ के अध्यक्ष के खिलाफ एक्शन की मांग कर रहे हैं.

पहलवानों की खेल मंत्री अनुराग ठाकुर से गुरुवार को बातचीत भी हुई, मगर बैठक बेनतीजा निकला. आज भी पहलवानों की खेल मंत्री संग बातचीत होने की संभावना है. वहीं, भारतीय कुश्ती संघ के अध्यक्ष और सांसद बृजभूषण शरण सिंह आज शाम चार बजे प्रेस कॉन्फ्रेंस भी करने वाले हैं. तो चलिए जानते हैं पहलवान बनाम भारतीय कुश्ती संघ दंगल से जुड़े सभी खास अपडेट.

भारतीय ओलंपिक संघ (IOA) ने विरोध कर रहे पहलवानों के मुद्दों पर चर्चा के लिए शुक्रवार को शाम 5:45 बजे आपात बैठक बुलाई.

बजरंग पुनिया ने कहा, ‘हमारी लड़ाई सरकार से नहीं है. हम सभी खिलाड़ी फेडरेशन और उसके अध्यक्ष के खिलाफ लड़ रहे हैं. कोई भी राजनीतिक दल हमारे इस आंदोलन पर राजनीति ना करें.’

- Advertisement -

शीर्ष भारतीय पहलवानों से मिलने के लिए केंद्रीय खेल मंत्री अनुराग ठाकुर सुबह से अपने आवास पर हैं, लेकिन कोई भी उनसे मिलने नहीं पहुंचा. समस्या को हल करने के लिए केंद्रीय मंत्री ने खेल मंत्रालय के अधिकारियों के साथ शुक्रवार को बैठक की, जिसमें डीजी साई भी मौजूद थे. वहीं, सूत्र ये बता रहे हैं कि पहलवानों को मिलने आना था लेकिन अभी तक नहीं आए हैं क्योंकि उनकी जो मांग है वो पूरी होती हुई दिखाई नहीं दे रही है.

रेसलिंग फेडरेशन ऑफ इंडिया के विरोध के तीसरे दिन दिल्ली के जंतर मंतर में बजरंग पुनिया ने कहा, ‘हम बृजभूषण शरण सिंह के आगे आने का इंतजार कर रहे हैं. हम यहां अपने करियर को जोखिम में डालकर आए हैं. यह लड़ाई हमारे युवा पहलवानों के लिए है जो कुश्ती का भविष्य हैं.

ओलंपियन पहलवान बजरंग पुनिया ने कहा, ‘हमें दुख इस बात का है कि एथलीटों को अपना अभ्यास छोड़कर यहां विरोध में बैठना पड़ रहा है. हमारी लड़ाई सिर्फ रेसलिंग फेडरेशन ऑफ इंडिया से है. हम प्रधानमंत्री, गृह मंत्री और केंद्रीय खेल मंत्रालय से हमारी मांगों को सुनने की अपील करते हैं. WFI अध्यक्ष ने इस लड़ाई को राजनीतिक मोड़ दिया.’

खेल मंत्री से मुलाकात के बाद पहलवान बजरंग पूनिया ने कहा कि अनुराग ठाकुर ने आश्वासन दिया है कि हमारे साथ न्याय होगा.

प्रदर्शन कर रहे पहलवानों ने भारतीय ओलंपिक संघ को पत्र लिखा है और ब्रज भूषण शरण को हटाने समेत चार मुख्य मांगें रखी हैं. पहलवानों की तरफ से विनेश फोगाट, बजरंग पूनिया, साक्षी मलिक, रवि दहिया और दीपक पूनिया ने भारतीय ओलंपिक संघ की अध्यक्ष पीटी ऊषा को पत्र लिख खिलाड़ियों के यौन उत्पीड़न और शोषण का मुद्दा उठाया है.ओलंपिक संघ के सामने पहलवानों ने चार मांगें रखीं.

1. यौन उत्पीड़न की शिकायत पर कमेटी गठित की जाए
2. कुश्ती महासंघ के अध्यक्ष से इस्तीफा लिया जाए
3. कुश्ती महासंघ को भंग किया जाए
4. कुश्ती महासंघ को चलाने के लिए पहलवानों की देख-रेख में एक नई कमेटी गठित की जाए

पहलवान विनेश फोगट, बजरंग पुनिया, साक्षी मलिक, रवि दहिया और दीपक पुनिया ने भारतीय कुश्ती संघ के अध्यक्ष बृजभूषण शरण सिंह के खिलाफ कथित यौन उत्पीड़न की शिकायतों पर भारतीय ओलंपिक संघ की अध्यक्ष पीटी उषा को पत्र लिखा है. प्रदर्शनकारी पहलवानों ने IOA से WFI अध्यक्ष के खिलाफ यौन उत्पीड़न की शिकायतों की जांच के लिए समिति नियुक्त करने का अनुरोध किया है.

पहलवान यौन शौषण मामले में सूत्र ने कहा कि सरकार भारत कुश्ती महासंघ के कायापलट के लिए तैयार है. प्रशिक्षण केंद्रों को दिल्ली शिफ्ट करने पर विचार कर रही है.

- Advertisement -

सूत्रों ने कहा कि भारतीय पहलवानों के आरोपों पर खेल मंत्रालय को भारतीय कुश्ती संघ आज दोपहर 3 बजे तक मंत्रालय को अपना जवाब भेजेगा.

कुश्ती संघ के अध्यक्ष बृजभूषण शरण सिंह ने गृह मंत्री अमित शाह से बात की है और उन्होंने पहलवानों के आरोप पर गृह मंत्री को अपना पक्ष बताया है.

भारतीय कुश्ती संघ के अध्यक्ष बृजभूषण शरण सिंह की पीसी की टाइम में बदलाव हुआ है. कुश्ती संघ के अध्यक्ष बृजभूषण शरण सिंह अब 4:00 बजे प्रेस कॉन्फ्रेंस करेंगे. डब्ल्यूएफआई प्रमुख बृजभूषण सिंह ने कहा, ‘राजनीतिक साजिश का पर्दाफाश’ आज प्रेस कांफ्रेंस में करेंगे.

-डब्ल्यूएफआई अध्यक्ष बृजभूषण शरण सिंह गुरुवार देर रात दिल्ली से सड़क मार्ग से गोंडा पहुंचे. वह अपने नवाबगंज स्थित आवास पर हैं. महासंघ की बैठक 22 जनवरी को है और इसके अयोध्या में होने की संभावना है. माना जा रहा है कि इस बैठक के बाद साफ हो जाएगा कि डब्ल्यूएफआई चीफ इस्तीफा देंगे या नहीं. बृजभूषयण शरण सिंह एक फायरब्रांड हिंदुत्व पोस्टर बॉय रहे हैं. उन पर 1992 में बाबरी मस्जिद विध्वंस का भी आरोप लगाया गया था, लेकिन बाद में उन्हें बरी कर दिया गया था.

दिल्ली के जंतर-मंतर पर आज खिलाड़ी अपना शक्ति प्रदर्शन करेंगे. बताया जा रहा है कि देश के तमाम पहलवान कुछ देर में इकट्ठा होंगे. फिलहाल, जंतर-मंतर पर भारी संख्या में पुलिस की तैनाती कर दी गई है.

सूत्रों की मानें तो केंद्रीय खेल मंत्री अनुराग ठाकुर आज सुबह 10:15 बजे धरने पर बैठे पहलवानों से दूसरे दौर की बैठक करेंगे.

रेसलिंग फेडरेशन ऑफ इंडिया (WFI) के अध्यक्ष बृजभूषण शरण सिंह आज दोपहर 12 बजे उत्तर प्रदेश के गोंडा जिले के नवाबगंज स्थित कुश्ती प्रशिक्षण केंद्र में प्रेस कॉन्फ्रेंस करेंगे और पहलवानों के आरोपों पर अपना पक्ष रखेंगे.

सूत्रों की मानें तो प्रदर्शनकारी पहलवानों की आज भी खेल मंत्री अनुराग ठाकुर से बातचीत होगी. माना जा रहा है कि अब भी ऐसे कई मुद्दे हैं, जिनका मुलाकात में हल नहीं निकल पाया है.

दरअसल, देश के शीर्ष पहलवानों के भारतीय कुश्ती महासंघ को तुरंत प्रभाव से भंग किये जाने की मांग के बीच खेल मंत्री अनुराग ठाकुर गुरुवार की देर रात तक गतिरोध समाप्त करने का प्रयास करते रहे. ओलंपिक पदक विजेता बजरंग पुनिया और साक्षी मलिक, विश्व चैंपियनशिप पदक विजेता विनेश फोगाट समेत कई भारतीय पहलवान डब्ल्यूएफआई अध्यक्ष बृजभूषण शरण सिंह पर यौन शोषण और धमकी देने का आरोप लगाते हुए पिछले दो दिनों से यहां जंतर-मंतर पर धरना दे रहे हैं.

गुरुवार की रात विनेश, बजरंग, साक्षी, अंशु मलिक, रवि दहिया, सरिता मोर समेत प्रदर्शनकारी पहलवानों ने ठाकुर से उनके आवास पर मुलाकात की और त्वरित कार्रवाई की मांग की. दोनों पक्षों के बीच बैठक देर रात तक जारी रही जिसमें दोनों पक्ष अब तक कोई ठोस समाधान निकालने में विफल रहे हैं।

सूत्रों के मुताबिक, सरकार चाहती है कि पहलवान अपना विरोध खत्म करें लेकिन खिलाड़ी इस बात पर अड़े हैं कि पहले डब्ल्यूएफआई को भंग किया जाए. पहलवानों के एक करीबी सूत्र ने कहा, ‘सरकार अन्य मुद्दों को बाद में सुलझा सकती है..लेकिन उसे पहले डब्ल्यूएफआई को भंग करना चाहिए.’ तीन बार राष्ट्रमंडल खेलों की पदक विजेता और भाजपा नेता बबीता फोगाट बृहस्पतिवार को सरकार की ‘संदेशवाहक’ बनी और धरने पर बैठे पहलवानों को उनकी मांगे पूरी करने का आश्वासन दिया जो भारतीय कुश्ती महासंघ को भंग करने की मांग कर रहे हैं.

पहलवानों की टीम को फिर सरकार से बैठक के लिये बुलाया गया जिसमें तीन बार की राष्ट्रमंडल चैम्पियन विनेश फोगाट और ओलंपिक कांस्य पदक विजेता बजरंग पूनिया तथा साक्षी मलिक और उनके पति सत्यव्रत कांदियान शामिल थे.

इन सभी ने अपने मुद्दों पर खेल सचिव सुजाता चतुर्वेदी, भारतीय खेल प्राधिकरण के महानिदेशक संदीप प्रधान और संयुक्त सचिव ( खेल) कुणाल से भी चर्चा की. एक घंटे तक चली बैठक में पहलवानों से विरोध प्रदर्शन खत्म करने को कहा गया और आश्वासन दिया गया कि उनकी शिकायतों का हल निकाला जायेगा.

इस बीच, डब्ल्यूएफआई को मंत्रालय की 72 घंटे के भीतर स्पष्टीकरण देने की मांग का जवाब देना अभी बाकी है, जिससे संशय बढ़ गया है. मंत्रालय, हालांकि, बृज भूषण को इस्तीफा देने के लिए मजबूर नहीं कर सकता जब तक कि उसे लिखित जवाब नहीं मिलता क्योंकि सरकार ने खुद डब्ल्यूएफआई से स्पष्टीकरण मांगा है,

- Advertisement -

Leave A Reply

Your email address will not be published.

This website uses cookies to improve your experience. We'll assume you're ok with this, but you can opt-out if you wish. Accept Read More